घुमंतू लड़की-3: पहाड़ों की नशीली सी हवा का जादू

सुबह 10 बजे भीमताल. कड़कती ठंड में जब सुबह नींद खुलती है तो बस वापस सर ढक के सो जाने का मन करता है. भीमताल में भी ऐसा ही हुआ. नींद जो देर रात लगी थी उसे 6 बजे खोलना ही था. ताकि बिना देरी किये अगले पड़ाव पर जा सकूँ.

रिम्पी को जगाने के साथ ही मैं वापस रजाई में घुस गयी. ऐसे जैसे हमेशा से मैं यहीं रही होऊं. पर उठना तो था. आलस को कई बार कह कर कि बॉस आज नहीं, मैं उठ ही गयी.

IMG_20171103_105326

रात के लज़ीज डिनर के बाद अब ब्रेकफास्ट की बारी थी. पिछली रात को मैं और रिम्पी बन ले आ गए थे कि सुबह बन मक्खन और चाय पी कर निकल जायेंगे. एक और मजेदार अनुभव के लिए. रात में रिम्पी ने मेहमान नवाज़ी में बड़ा टेस्टी खाना खिलाया था तो सुबह मैंने किचन का जिम्मा ले लिया.

अब भीमताल का जो वाक़या मुझे याद है और जो सबसे गुदगुदा जाता है वो ये है कि मैंने इस दिन के पहले कभी भी बन मक्खन नहीं खाया था. हाँ नाम बहुत सुना था. तारीफ़ भी बहुत सुनी थी. पर कभी ट्राई नहीं किया. मैंने कभी इसे बनते भी नहीं देखा था तो ये अलग ही कहानी हो गयी थी. तो जो काम मैंने इस बन मक्खन के साथ किया था अगर बन मक्खन की कोई सोसाइटी होती तो उस वक़्त मेरे खिलाफ प्रोटेस्ट चालू हो चुका होता.

IMG_20171103_112155

मैंने चाय तो बना ली और अपनी बुद्धि का पूर्ण इस्तेमाल करके बन भी बना लिया. जब नाश्ता करने की बारी आई तो रिम्पी और मैंने प्रार्थना की और टूट पड़े चाय की ओर. रिम्पी के नाश्ते का सारा एक्साइटमेंट हवा होने में मात्र 3 सेकंड लगे थे और मैं मजे में अपना बनाया बन मक्खन खा रही थी. अब मैंने तो बन मक्खन खाया था नहीं पहले तो मुझे नहीं लगा कुछ भी.

दरअसल मैंने बन को ऊपर और नीचे से सेंक दिया था अंदर से बन ठंडा था और मुझे तो पता था नहीं कि बन भाईसाब को बीच से काट कर मक्खन भी भरना होता है. मैंने रिम्पी की ओर देखा जो कि मुझे पहले से देख ही रही थी. मेरे सिक्सथ सेंस ने चीख-चीख कर कहा, बेटा आस्था तुम फिर से कुछ तो कांड कर दी हो.

मैंने बड़े प्यार से सवाल किया ‘अच्छा नहीं बना क्या?’ रिम्पी ने बोला ये बना ही नहीं है. उस दिन जिस शर्मिंदगी से फिर मैंने बन मक्खन बने आधे बन को चाय के साथ नजरें झुका कर खाया था वो याद करने में आज भी बड़ी गुदगुदी होती है.

READ ALSO: छोटे बालों वाली लड़कियों को लोग इतना घूरते क्यों हैं?

IMG_20171103_114614

खैर, ये सब तो हो गया अब आज हमको जाना था एक गाँव. टिपिकल पहाड़ी गाँव. नाश्ता ख़त्म करने के बाद रिम्पी ने उठाई गाड़ी और हम झूमने लगे पहाड़ों की नशीली हवाओं के बीच. गोल घूमते रास्ते. अचानक से पड़ती सूरज की रौशनी की गरमाहट. ठंडी हवाओं का झोंका. जंगलों की वो भीनी सी खुशबू. घुमावदार रास्तों में बाइक के घूमने के साथ मेरे हाँथ हवा में लहराते और घूम जाते.

जब मन उन ठंडी हवाओं से भर ही नहीं पा रहा हो जैसे.

हम बीच में कहीं रुकते और रिम्पी फ़ोन में बात करतीं. उस दौरान मैं पहाड़ों की उस नशीली सी हवा में ज़रा और जीती. पूरा दम भर कर सांस लेती और एक अलग ही जोन में निकल जाती. जिस वक़्त दिल्ली में स्मॉग ने हाहाकार मचाया हुआ था उस वक़्त मैं इन खूबसूरत से लम्हों को जीते हुए अपने होने का शुक्र मना रही थी.

IMG_20171103_114045

अगला पड़ाव था जंगलिया गाँव

रिम्पी को इस गाँव में कुछ काम था. मैंने उनके इस काम का पूरा फायदा उठा लिया.

भीमताल हॉस्पिटल के अंडर में जो गाँव आते हैं उनमें से जंगलिया गांव भी एक है. इसी गाँव में आशा कार्यकर्ता लक्ष्मी जी हैं. जो कि पिछली रात उस महिला को लायी थीं जिनकी डिलीवरी में काफी वक़्त लगा था. लक्ष्मी जी और उनके पति भूपाल सिंह इस गाँव में करीब 40 साल से रह रहे हैं. उनके दादा पिता भी यहीं रहते थे.

img_20171103_112334.jpg

पूरे रास्ते मैंने कई सारे नए बनते हुए रिसॉर्ट्स और होटल्स देखे. मैंने भूपाल जी से पूछा इस बारे में तो उन्होंने बताया कि ”दिल्ली वाले लोगों के हैं इनमें से अधिकतर रिसॉर्ट्स. उत्तराखंड के नौकुचियाताल में तो अमिताभ बच्चन की भी प्रॉपर्टी है.”

भूपाल जी के घर पर ढेरों पकवानों से आव-भगत हुई हमारी. खाना खा कर बहुत मजा भी आया. उन्होंने और उनके बेटों ने बहुत बात की मुझसे. मैंने भी उनसे कसार देवी और उत्तराखंड के बारे में ढेर जानकारियां लीं.

उनके 3 बेटे हैं जो दिल्ली में रहते हैं. छोटी जगहों के लोगों का रुख महानगरों की ओर ऐसे में ज्यादा बढ़ा है. उनके बेटे रेस्तरां में काम करते हैं और सर्दियों में फसल के वक़्त गांव आते हैं. खुशकिस्मती से मैं सबसे मिल ली.

READ ALSO: उत्तराखंड में भटकती लड़की का सफ़र…

IMG_20171103_122157

ये भी पढ़ें:

अकेले घूमने निकली लड़की के घुमंतू किस्से

एक आश्रम से दूसरे आश्रम की उम्मीद में

जब रास्ता भटके और अंधेरे में एक आवाज सुनाई दी नर्मदे हर

नर्मदा परिक्रमा: जुनून और रोमांच से भरा सफ़रप्रोजेक्ट गो नेटिवके साथ

(आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. अपनी राय भी हमसे शेयर करें.)

3 thoughts on “घुमंतू लड़की-3: पहाड़ों की नशीली सी हवा का जादू

  1. Thought in mind coming because you r able to convey message of Nature to is. Keep going to explore ur journey

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s