ऑफिस में घंटों काम करने वाले प्रोफेशनल्स के लिए खास टिप्स

शरीर का अपना एक अलाइनमेंट होता है, जिसमें बैठते या खड़े होते वक़्त पीठ सीधा रखना, चलते वक़्त सीधे चलना, खड़े होते वक़्त दोनों पैरों पर समान वजन डालकर सीधे खड़े रहना आदि हैं.

गलत बॉडी पॉश्चर के कारण स्लिप डिस्क, कमर दर्द, पीठ दर्द, ख़राब ब्लड सर्कुलेशन, सोने में दबाव जैसी समस्याओं से आपको रूबरू होना पड़ सकता है.

office
Image: pxhere

कितना फायदेमंद है सही बॉडी पॉश्चर?

सही बॉडी पॉश्चर हमें अच्छे से सांस लेने में मदद करता है. इससे दिमाग में ऑक्सीजन बेहतर तरीके से पहुँच पाती है, जिससे हमारा दिमाग अच्छे काम करता है और हमारी सोचने-समझने की शक्ति भी बेहतर होती है. सही बॉडी पॉश्चर से जोड़ों पर बेवजह दवाव नहीं पड़ता, जिससे उनमें तनाव नहीं आता. इससे बैक ब़ोन में तनाव नहीं आता.

सही बॉडी पॉश्चर के कारण आप आकर्षक और स्मार्ट लगते है, जिससे आपके आत्मविश्वास में भी बढ़ोतरी होती है.

इन टिप्स को अपना कर आप सही बॉडी पॉश्चर बरकार रख सकते हैं.

स्टैंडिंग पोजीशन standध्यान रखें कि खड़े होने पर आप आगे की तरफ झुके हुए ना हों. गर्दन और पीठ सीधे रखें, पर ध्यान रहे कि आपका शरीर ज्यादा तना हुआ नजर ना आए.

खड़े रहने पर हमेशा दोनों पैरों पर समान वजन रखें. एक ही पैर पर पूरा वजन डालते हुए ना खड़े हों. इससे उस पैर की मसल पर ज्यादा तनाव पड़ता है जो की सही नहीं है.

लिफ्टिंग पोजीशन
वजन उठाते समय सिर्फ कमर से ना झुकें, बल्कि घुटनों को भी मोड़ें, ताकि कमर पर पूरा दबाव न पड़े.
अगर आपको कोई सामान भरी लग रहा है, तो उसे सीधे जमीन से उठाने की बजाय, पहले किसी कुर्सी या मेज पर रखें, फिर ऊपर उठाएँ. इससे जोड़ों पर बेवजह दबाव नही पड़ता.

कंप्यूटर के सामने बैठते हुए रखें इन बातों का ख़ास ख्याल –
बॉडी पॉश्चर में सबसे ज्यादा गलती लोग बैठने में करते हैं. आज कल की लाइफ स्टाइल में अधिकतर लोगों को घंटों कंप्यूटर के सामने बैठना पड़ता है, जिससे सिरदर्द, गर्दन और कन्धों का दर्द, कोहनी, हाथ की उँगलियों और कलाई में दर्द, पीठदर्द और कई बीमारियों से परेशान होना पड़ता है.

इन सब से बचने के लिए कुछ बातों का ख़ास ध्यान रखें-
कुर्सी में बैठते वक़्त ध्यान रखें की पैर जमीन पर हों. पैरों को ज्यादा समय तक क्रॉस करके न बैठें. अगर पैर जमीन पर नहीं पहुच रहें हो तो प्लेटफोर्म की मदद लें.

aby

  1. पैंट की बैक पॉकेट में व़ालेट वगैरह रख कर न बैठें.
  2. कुर्सी में अपनी बैक को सपोर्ट दे कर बैठें.
  3. अगर आप कुर्सी के आधे हिस्से में बैठ कर ही काम करते हैं तो यह आपके लिए कई तकलीफ को बुलावा देगा. बीच बीच में स्ट्रेचिंग करते रहें.
  4. कुर्सी अगर एडजस्टबल है, तो उसे अपनी जरुरत और सुविधा के अनुसार ऊपर या नीचे करके इस्तेमाल करें
  5. की-बोर्ड को अपने बिलकुल सामने रखें. माउस हमेशा की-बोर्ड के सामने हो, ताकि आपकी कलाइयाँ और हाथ सीधे रहें.
  6. कंप्यूटर स्क्रीन का सेंटर बिलकुल आपके सामने हो और कंप्यूटर का ऊपरी हिस्सा आपकी आँखों के लेवल से 5 से 7 सेंटीमीटर ऊपर हो.
  7. कुर्सी में बैक सपोर्ट के लिए कुशंस का इस्तेमाल भी आप कर सकते हैं.
  8. लगातार ज्यादा देर तक ना बैठे रहे .
  9. हर आधे घंटे में उठकर थोड़ा टहलें और बॉडी को स्ट्रेच करें.
  10. गर्दन और पीठ की मांसपेशियों को रिलैक्स करने के लिए समय समय पर मसाज लेते रहें.

(आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. अपनी राय भी हमसे शेयर करें.)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s