सांची के बौद्ध स्तूप देखना चाहते हैं तो यहां जानें सब कुछ

मध्य प्रदेश की राजधानी के करीब यह जगह सुकून से भरी है. बौद्ध तीर्थस्थल होने के साथ यह यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल है.

sanchi 1

सांची के स्तूप दूर से देखने में भले ही मामूली लगें लेकिन इसकी भव्यता, विशिष्टता व बारीकियों का पता सांची आकर देखने पर ही लगता है. इसीलिए देश-दुनिया से बडी संख्या में बौद्ध, पर्यटक, शोधार्थी, अध्येता इस बेमिसाल संरचना को देखने चले आते हैं.

सांची के बारे में कुछ जानकारियां आपके लिए यहां हैं:

सांची का बौद्ध विहार, महान स्तूप के लिये प्रसिद्ध है जो भारत के मध्यप्रदेश राज्य के रायसेन जिले के सांची शहर में स्थित है और भोपाल से उत्तर-पूर्व में 46 किलोमीटर दूर है.

1-s11

सांची में असंख्य बौद्ध संरचनाए, खंभे और मठ एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. सांची स्तूप यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थलों के अंतर्गत आता है.

ये स्मारक 3 ईसा पूर्व से 12 वीं शताब्दी ईसवी तक, 1300 वर्षों की अवधि में बौद्ध कला और वास्तुकला की उत्पत्ति, पुष्पप्रणाली और क्षय दर्ज करते हैं. यह बौद्ध धर्म की लगभग पूरी श्रृंखला को कवर किये है.

सांची स्तूप मुख्य रूप से मौर्य वंश शासन के दौरान बनाए गए हैं. यहां, सांची के “महान स्तूप” को भारत में सबसे पुराना पत्थर ढांचा माना जाता है. यह मूलतः 3000 साल ईसा पूर्व में मौर्य सम्राट अशोक महान द्वारा बनवाया गया था. यह स्तूप बुद्ध के अवशेषों पर भगवान बुद्ध के लिए एक श्रद्धांजलि के रूप में अर्पित है. सभी स्तूपों में सांची स्तूप एक अर्द्ध गोलाकार चट्टान से बना हुआ सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावशाली स्तूप है. आज ये जगह बौद्ध धर्म का एक महान और प्रतीक केंद्र बन गयी है.

सांची में आप प्रवेश शुल्क भुगतान करके सूर्योदय से सूर्यास्त तक घूम सकते हैं. यहां पर्यटकों के लिए गाइड सेवा भी उपलब्ध है.

पुणे डायरी: जब कैब ड्राइवर ने ट्रिप को बना दिया यादगार

sanchi 2

सांची ग्रेट स्टूपा
सांची के महान स्तूप को ‘स्तूप -1’ के लिए जाना जाता है, यह सांची में सबसे प्रमुख संरचना है. यह महान स्तूप अर्धगोलाकर डोम जैसी संरचना है जिसका मुकुट काट दिया गया है. यह एक चौकोर रेलिंग के अंदर केंद्र में स्थापित किया गया है.

ये रेलिंग विस्तृत नक्काशियों के साथ सजे हैं और उनमें बुद्ध के जीवन, अपने पिछले जन्म और अन्य बौद्ध धर्म के महत्वपूर्ण महापुरूषों के जीवन से जुड़े हुए तथ्य दिखाए गये है. सांची ग्रेट स्तूप का व्यास 36.60 मीटर है और ऊंचाई 16.46 मीटर है.

मध्ययुगीन काल से सांची स्तूप सबसे अच्छा वास्तु डिजाइन है जिसमें सभी स्तूपों को सबसे संगठित संरचनाओं में से एक कहा गया है.

यहां 4 गेटवे हैं, जो कि विस्तृत रूप से खुदी हुई हैं, ये पहली सदी ईसा पूर्व बनाए गए थे. प्रत्येक गेटवे में 2 शेर खंभे शामिल हैं जो 4 शेरों, हाथियों या बर्तनों से भरे हुए बौने के एक सेट द्वारा ताज पहनाया गया है. इन गेटवे की ऊंचाई 8.53 मीटर है. यहां ध्यान मुद्रा में बुद्ध की 4 प्रतिमाएं, प्रत्येक स्तंभ नीचे स्थापित की गई थीं.

IMG_3050

सांची म्यूजियम-
सांची स्तूप से नीचे आते हुए आप एक सफेद इमारत पाएंगे. यह सांची संग्रहालय है जिसे औपचारिक रूप से “पुरातत्व सर्वेक्षण भारत के स्थल संग्रहालय” के रूप में जाना जाता है.

सांची संग्रहालय में भारत के गौरवशाली अतीत से कुछ अनमोल खजाने हैं. संग्रहालय 1919 में सर जॉन मार्शल द्वारा स्थापित किया गया था, जब वह भारत के पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के महानिदेशक थे. सांची संग्रहालय में 4 गैलरी और एक बड़ा सेंट्रल हॉल हैं.

यहां सार्वजनिक दृश्य के लिए मूर्तिकला कलाकृतियों की विविधता प्रदर्शित की गई है ये लेख सांची और उसके पास बौद्ध और हिंदू स्थलों जैसे विदिशा, गिरसपुर, मुर्यलखुर्द आदि से हैं.

कैसे पहुंचे-

फ्लाइट से:-
सांची स्तूप तक पहुंचने के लिए नजदीकी हवाई अड्डा राजा भोज हवाई अड्डे (आईएटीए कोड: बीएचओ) भोपाल शहर में है. सांची, भोपाल हवाई अड्डे से 55 किलोमीटर दूर है. यह मुंबई, अहमदाबाद, रायपुर और दिल्ली जैसे हवाई अड्डों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. भोपाल हवाई अड्डे से सांची तक आने के लिए आपको भोपाल एयरपोर्ट टैक्सी सेवा मिलती है जिसके आप सांची स्तूप और कई और भी जगहें देख सकते हैं.

DSC_0544

ट्रेन से:-
सांची रेलवे स्टेशन एक छोटा सा स्टेशन है, जहां कम गाड़ियां रूकती हैं. नजदीकी रेलवे स्टेशन विदिशा है. या फिर आप भोपाल या हबीबगंज रेलवे स्टेशन से कैब या प्राइवेट बस के माध्यम से सांची पहुच सकते हैं.

सड़क मार्ग:-
सांची, भोपाल-सागर राज्य राजमार्ग पर स्थित है. सड़कें अच्छी हैं और भोपाल, रायसेन, सागर, विदिशा इन जगहों से अच्छे से जुडी हुई हैं. सांची भोपाल के उत्तर पूर्व में 55 किमी उत्तर पर स्थित है.

सांची के लिए सबसे अच्छा समय:-
वैसे तो सांची साल में कभी भी आया जा सकता है, लेकिन अक्टूबर से अप्रैल के बीच का समय अच्छा होता है.

ठहरने के लिए :-
म.प्र. पर्यटन विकास निगम का लॉज, कैफेटेरिया, सरकारी डाक बंगला तथा बौद्ध धर्मशाला यहां उपलब्ध है.

सांची के नजदीक ही आप भीमबेटका, चंदेरी, खजुराहो, पचमढ़ी, इंदौर, उज्जैन, मंडू, महेश्वर इन जगहों पर भी जा सकते हैं.

(आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. अपनी राय भी हमसे शेयर करें.)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s